Posts Tagged: विरह व्यथा से व्यतीत द्रवित हो

विरह व्यथा से व्यतीत द्रवित हो, वन वन भटके राम

PIN
आश्रम देखि जानकी हीना, भए बिकल जस प्राकृत दीना।। विरह व्यथा से व्यतीत द्रवित हो, वन वन भटके राम-२।अपनी सिया को, प्राण पिया को, पग पग ढूंढे राम।विरह व्यथा से व्यतीत द्रवित हो…… कुंजन माहि न सरिता तीरे, विरह विकल रघुवीर अधीरे।हे खग मृग हे मधुकर शैनी, तुम देखी सीता मृग नयनी।वृक्ष लता से, जा[…]
Open chat